.

रडुओं ने मनाया नया साल

Posted On 10:13 pm by विनीत कुमार |

सुबह-सुबह दिसम्बर तक का बिल लिए अखबारवाले भइया खड़े हैं और मैं अपनी खुमारी में हूं। मेरे सारे अखबारों पर हाथ से लिखा है- हैप्पी न्यू ईयर। कमरे के बाहर सारे लड़के एक- दूसरे को नसीहतें दे रहे हैं, बच के भइया...सब जगह कांच है, पैर कट जाएगा। मग खोजता हूं, मुंह धोने के लिए। नहीं मिली । बाहर देखा तो लगा रात में किसी ने उसकी ले ली है, एकदम चिथड़ा। सोचा था नये साल में थोड़ा और आत्मनिर्भर बनने की कोशिश करुंगा...यहां सुबह ही सुबह मग मांगनी पड़ गयी।
जब छोटा था और नहाने में अपने मनमोहन सिंह (किसी करार पर ) से भी ज्यादा टाइम लेता और बोलकर मुकर जाता तो मां कहती- आज नहीं नहाओगे तो सालभर पानी नहीं मिलेगा नहाने को। अब डरा हूं कि पूरा २००८ कहीं मांगने में ही न कट जाए।
मेस के सारे लोग बर्तन बटोरने में लगे हैं, कहीं कटोरी है तो कहीं चम्मच और कहीं पिचका हुआ ग्लास। पूरे हॉस्टल का ऐसा नजारा कि अगर किसी कमजोर चैनल को पाकिस्तान का विजुअल अभी तक नहीं मिला है तो यहां की फुटेज लेकर चला सकता है। बाकी टेप के लिए पहले बात करनी होगी।
माली महीनों से फ्लावर्स डे की तैयारी में जुटा है। पूरा नजारा देखकर बहुत दुखी है। शक्ल से लगा कि मैं पीता-पाता नहीं हूं तो मेरे पास आकर बोला कि- देखिए सर क्या हाल किया है रात में लोगों ने पीकर। आप ही बताइए, क्या नया साल ऐसे मनाते हैं। कई गमलों का सत्यानाश। फूल गमले से बाहर ऐसे गिर आए थे कि जैसे किसी ने बिना अपनी मर्जी के पेट गिराया है।
ब्रेकफास्ट की टेबल पर सिर्फ एक ही चर्चा। क्या ऐसे मनाते हैं लोग हैप्पी न्यू इयर। मेरे मुंह से उनके लिए सिरफ गाली निकल रही थी- स्साले चूतिए...दिनभर सारे चैनलों में देखा कि कैसे बड़े-बड़े लोग मनाते हैं न्यू इयर, फिर भी उत्पात मचाने से बाज नहीं आया और गाली हटाकर कहा कि- भाई जरा टीवी से कुछ सीख लो तो एक बंदा मेरे उपर ही उबल पड़ा-- चुप्प॥ इ बड़ा आदमी क्या सिरफ वृद्ध भिक्षु ( औल्ड मांक ) पीकर ही न्यू इयर मनाते हैं। आप ज्यादा जानते हैं हमसे। गए हैं कभी १ जनवरी के भोर में गुडगांव और जीटी करनाल रोड़। कैसे सब लेके पड़ा रहता है। हम रडुआ लोग बिना उसब के ऐसे ही मनाएंगे, नयू इयर। जो लोग गर्लफ्रैंडशुदा हैं वो तो साले मजे मे है ही, हमलोग को एक एसएमएस तक नहीं। सुबह से ही चैनलों से गुजर रहा हूं, ऐसी कोई खबर नहीं है। हां चैनल का एक बंदा स्टोरी कवर करने गया है गोवा...बता रहा था यहां आकर तो एंकर ने तो सारे लाज- सरमं धो दी है और कैमरामैन भी साला बहुत ठरकी है। बाकी इस मामले में कोई न्यूज नहीं है।
मोबाइल को सुबह से ही लूज मोशन शुरु हो गया है। एसएमएस की बार-बार उल्टी आ रही है। रात के सारे बासी फारवेडेड मैसेज आ रहे हैं और फोन पर रटा-रटाया वाक्य- हैप्पी न्यू इयर।
तो इस चिक- चिक और हील-हुज्जत के साथ बीती अपनी नयी साल की सुबह। मन बन रहा है रात में तो कुछ नहीं ही लिया अब सुबह देखता हूं कहीं जूस- वूस मिल जाए।
| edit post
0 Response to 'रडुओं ने मनाया नया साल'

टिप्पणी पोस्ट करें