.

A 2 Z चैनल के एंकर और संवाददाता मालिक के बेहूदे फरमान से खासा परेशान हैं. उन्होंने इसका खुलकर विरोध किया है लेकिन स्थिति में कोई बदलाव नहीं आए हैं. उल्टे मालिक को इस बात की खुशफहमी है कि देर-सबेर बाकी के चैनल उन्हें फॉलो करेंगे.

जैसा कि पहले भी हमने आपसे ये बात साझा की थी और इस संबंध में वीडियो भी जारी किया था कि इस चैनल के मालिक ने एंकरों और संवाददाताओं को हिदायत दी है कि वो जब भी नेताओं का नाम लें तो उसके साथ जी का इस्तेमाल करें. जैसे मोदीजी, जयराम रमेशजी. मीडिया एथिक्स की तो छोड़िए, मालिक के इस फरमान से एंकर और संवाददाता को खबर पढ़ने और प्रेषित करने में दिक्कत हो रही है. वो जी बोलते समय सहज नहीं रह पाते या फिर कई बार अटक भी जाते हैं. इस संबंध में फेसबुक पर लगातार प्रतिक्रिया का आना जारी है जिसमें ये भी कहा जा रहा है कि ये सब आनेवाले चुनाव को ध्यान में रखते हुए किया जा रहा है. बहरहाल

फेसबुक के साथ इन दिनों अच्छी बात है कि मीडिया के कई पुराने और सालों से मुख्यधारा मीडिया से जुड़े रहे लोग न केवल सक्रिय हैं बल्कि वो हम जैसे नए लोगों की बातों को गंभीरता से सुनते भी हैं और जरुरत के हिसाब से रिस्पांड भी करते हैं. इसी क्रम में हमने इस स्थिति को आजतक के पूर्व समाचार निर्देशक और टेलीविजन के अनुभवी वरिष्ठ पत्रकार कमर वहीद नकवी की फेसबुक टाइमलाइन पर साझा किया तो उन्होंने बहुत ही स्पष्ट शब्दों में अपनी बात कही -

"किसी समय हिन्दी अखबारों में नाम के आगे श्री/सुश्री/श्रीमती आदि लगाने की परंपरा थी, जिसे संभवतः 70 के दशक में छोड़ दिया गया और इन आदरसूचक सम्बोधनों को पूरी तरह त्याग दिया गया. लेकिन नाम के बाद 'जी' लगाने की" कभी कोई परंपरा नहीं थीआधुनिक पत्रकारिता की रीति-नीति के अनुसार न तो श्री लगाया जाना चाहिए और न ही जी लगाया जाना चाहिए. ऐसा करना पत्रकारिता की गरिमा के विरुद्ध है."

जाहिर है इनके कथन से ये स्पष्ट है कि मीडिया का जो पैटर्न आज से चालीस साल पहले ही खत्म हो गया हो, प्रचलन में नहीं रहा, उसे दोबारा शुरु करना पुराने पैटर्न की तरफ लौटने के बजाय इसे हास्यास्पद स्थिति में धकेलना है. एक हद तक फॉर्मेट के स्तर पर बनी तटस्थता को भंग करना है. लेकिन चैनल के मालिक को पत्रकारिता की इस बुनियादी समझ से कोई लेना-देना नहीं है और न ही इस बात की रत्तीभर भी समझ है. अगर ऐसा होता तो वो इस पर विचार करने के बजाय इस खुशफहमी में न रहते कि देरसबेर बाकी के चैनल भी इन्हें फॉलो करेंगे.


| edit post
0 Response to 'नाम के पीछे जी लगाना पत्रकारिता की गरिमा के विरुद्धः कमर वहीद नकवी'

टिप्पणी पोस्ट करें