.



जातीय उत्पीड़न के खिलाफ संघर्ष कर रही कनकलता और उसके परिवार वालों को आज एक बड़ी सफलता मिली है। दिल्ली पुलिस ने उत्तर-पश्चिम के एसीपी चन्द्रहास यादव को जांच अधिकारी के पद से हटा दिया है। ध्यातव्य है कि एसीपी यादव पर आरोपी ग्रोवर परिवार को बचाने का आरोप है।


आज पुलिस मुख्याल्य में "पीपुल्स एक्शन अगेन्सट दलित एट्रोसिटीज" के प्रतिनिधिमंडल से बात करते हुए दिल्ली पुलिस के संयुक्त सचिव श्री आर.आर.मीणा ने बताया कि अब कनकलता के मामले की छानबीन डीसीपी उत्तर-पश्चिम डॉ सागरप्रीत हुडा करेंगे। डॉ हुडा ने प्रतिनिधि मंडल को आश्वस्त करते हुए ये कहां कि भारतीय दंड संहिता की धारा १६४ के तहत कनकलता का वक्तव्य दर्ज किया जाएगा। उन्होंने यह वादा भी किया कि इस मामले में अबतक जो भी कारवाई हुई है उसकी रिपोर्ट ४८ घंटे के भीतर "पीपुल्स एक्शन अगेन्सट दलित एट्रोसिटीज" और पीड़िता को दे दी जाएगी।


पुलिस मुख्यालय में आज आला अधिकारियों के साथ प्रतिनिधि मंडल की हुई बातचीत में यह तथ्य साफ तौर पर निकलकर सामने आया कि एसीपी उत्तर-पश्चिम चन्द्रहास यादव ने ग्रोवर परिवार के साथ आपराधिक सांठ-गांठ करके कनकलता के साथ हुए जातीय उत्पीड़न के इस मामले को पूरी तरह दबाने की कोशिश की। प्रतिनिधि मंडल को यह बताया गया कि ग्रोवर परिवार के खिलाफ ६ मई को ही अनुसूचित जाति/जनजाति ( उत्पीड़न निरोधक) अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। ऐसे में ग्रोवर परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी न होना चंद्रहास यादव औऱ दिल्ली पुलिस की भूमिका पर सवाल खड़ा करती है।


दिल्ली पुलिस के संयुक्त सचिव श्री मीणा ने प्रतिनिध मंडल को यह आश्वस्त किया कि दिल्ली उच्च न्यायालय में अगली सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस आरोपी ग्रोवर परिवार के सदस्यों की जमानत का पुरजोर विरोध करेगी। प्रतिनिधि मंडल में दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक अपूर्वानंद, इग्नू की विमल थोराट, एनसीडीएचआर के पॉल दिवाकर, जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष संदीप औऱ कनकलता शामिल थी।


ध्यान रहे विगत ३ मई को कनकलता औऱ उसके भाई-बहनों की जाति जान लेने के बाद मुखर्जीनगर, दिल्ली में उनके मकान-मालिक ओमप्रकाश ग्रोवर और उनके परिवार के सदस्यों ने कनकलता और उनके भाई-बहनों के साथ गाली-गलौच और मारपीट की थी।


कनकलता के साथ हुए जातीय उत्पीड़न में पुलिस की संदिग्ध भूमिका और अब तक आरोपी ग्रोवर परिवार के सदस्यों की गिरफ्तारी न होने के विरोध में "पीपुल्स एक्शन अगेन्सट दलित एट्रोसिटीज" के बैनर तले आज दौ सौ से भी अधिक छात्रों, शिक्षकों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने पुलिस मुख्यालय पर धरना दिया।

| edit post
3 Response to 'पुलिस मुख्यालय पर प्रदर्शन ; कनकलता को मिलेगा न्याय'
  1. PD
    http://taanabaana.blogspot.com/2008/06/blog-post_2868.html?showComment=1213879200000#c3909810666489254097'> 19 जून 2008 को 6:10 pm

    बढ़िया खबर है..
    अच्छा लगा पढ़कर..

     

  2. Suresh Chandra Gupta
    http://taanabaana.blogspot.com/2008/06/blog-post_2868.html?showComment=1213888080000#c818045313456029863'> 19 जून 2008 को 8:38 pm

    विनीत जी, अच्छी ख़बर सुनाई आप ने. धन्यवाद.
    वधाई भी, इस सिलसिले में इस प्रगति पर. कनकलता को न्याय मिलना ही चाहिए.

     

  3. सुशील कुमार छौक्कर
    http://taanabaana.blogspot.com/2008/06/blog-post_2868.html?showComment=1213933740000#c7951370261976643813'> 20 जून 2008 को 9:19 am

    विनीत जी आप लोगो की मेहनत रंग ला रही है कल हुई कारवाई इसी का परिणाम है। मैंने खुद देखा आप कैसे मेहनत किये जा रहे थे आपकी आँखे कुछ ढूढ रही थी हाथ पेपर बाट रहे थे और आपकी जुबान कनकलता की आवाज उठा रही थी। एक दिन कनकलता को पूरा न्याय मिलेगा।

     

एक टिप्पणी भेजें