.

रोज से अलग मैंने पहले हिन्दुस्तान अखबार को उठाया,फिर उसके बाद दि हिन्दू। हिन्दुस्तान में मैंने देखा कि वीर सिंघवी ने "अरुंधति के खेल में ना फंसे"शीर्षक से लेख लिखकर अरुंधित को लेकर मीडिया का क्या नजरिया है,उसका संकेत दे दिया। थोड़ी देर के लिए हम मान भी लें कि अरुंधति राय जो कुछ भी कह रही है और कर रही है वो एक लेखिका की हैसियत से नहीं बल्कि राजनीतिक कार्यकर्ता के दायरे में आता है,जिसकी बात सिंघवी ने की। लेकिन इससे ये कहीं भी साबित नहीं होता या होना चाहिए कि मीडिया इस पूरे मामले में दूध का धुला है। बल्कि ऐसे ही मौके पर मीडिया का असली चेहरा कैसा है,कितना डरानेवाला,खौफनाक है। लिहाजा आज दि हिन्दू में कल सुबह बीजेपी के गुंड़ों की ओर से हुए हमले के बारे में जब पढ़ा तो काफी चीजें निकलकर सामने आयी। अरुंधति ने बहुत ही स्पष्ट तौर पर कुछ मीडिया हाउस के कारनामे को उजागर किया है। मुझे लगा कि ये बात हिन्दी पाठकों के बीच भी साझा किया जाना चाहिए। मैं अरुंधति की बात का हिन्दी तर्जुमा पेश कर रहा हूं। आप भी मीडिया के इस चरित्र पर गौर फरमाएं-

31
अक्टूबर की सुबह 11 बजे करीब सौ लोगों की उत्पाती भीड़ मेरे घर पहुंची। दरवाजे को तोड़ते हुए अंदर पहुंची और जमकर तोड़-फोड़ मचाया। सामने जो चीजें पड़ी मिलीं, उसे तहस-नहस किया। कश्मीर मामले पर मैंने जो अपने बयान दिये हैं, उसके विरोध में वो जमकर नारे लगा रहे थे और हमें सबक सिखाने की बात कह रहे थे। टाइम्स नाउ, एनडीटीवी और हिंदी न्यूज चैनल न्यूज 24 के ओबी वैन इस उत्पात को लाइव कवर करने के लिए पहले से ही तैनात नजर आये। टीवी में जो रिपोर्ट आये, उनके मुताबिक इसमें बड़ी संख्या में बीजेपी की महिला मोर्चा के लोग शामिल थे। जब वो लोग चले गये, तो पुलिसवालों ने हमें सलाह दी कि आगे से जब भी हमें चैनलों के ओबी वैन आसपास दिखाई दें, तो इसकी जानकारी हमें दें। ऐसा इसलिए क्योंकि ओबी वैन इस बात का संकेत देते हैं कि अगर वो हैं तो उसके पीछ जरूर रास्ते में भीड़ (उत्पात मचानेवाली) होगी। इसी साल के जून महीने में पीटीआई की एक झूठी खबर (जिसे कि तमाम अखबारों ने छापा) के बाद मोटरसाइकिल पर सवार दो लोगों ने मेरे घर की खिड़कियों पर पत्थरबाजी करने की कोशिश की। तब भी टेलीविजन के कैमरामैन साथ थे।

इस तरह का हंगामा मचानेवाली उत्पाती भीड़, तमाशा पैदा करनेवाले इन लोगों और इस तरह के मीडिया के बीच का जो सांठ-गांठ है, आखिर उसका चरित्र कैसा है? इस तरह के तमाशे के बीच मीडिया अपनी भूमिका जिस तरह से एडवांस के तौर पर निर्धारित करता है, क्या वो इस बात की गारंटी दे सकता है कि जो भी विरोध प्रदर्शन और हमले होंगे, वो अहिंसक होंगे? अगर इस तरह से आपराधिक सक्रियता बनती है, हंगामे किये जाते हैं जैसा कि आज हुआ, इससे भी बदतर हो सकते हैं – तो क्या हम मानकर चलें कि मीडिया दरअसल अब अपराध का ही एक औजार बन गया है। ये सवाल इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि कुछ टीवी चैनल और अखबार बड़ी ही बेशर्मी और ढिठाई से लोगों को मेरे खिलाफ उकसाने में सक्रिय हैं। खबरों में सनसनी पैदा करने की उनकी आपसी छटपटाहट और अंधी दौड़ ने खबर देने और खबर पैदा करने के बीच के फर्क को ब्लर कर दिया है, खत्म कर दिया है। इनके लिए फिर क्या फर्क पड़ता है, अगर इस टीआरपी की बेदी पर कुछ लोगों की बलि चढ़ जाती है?
सरकार की तरफ से जब इस बात के संकेत मिले कि कश्मीर मसले पर मैंने और दूसरे वक्ताओं ने कश्मीर के लिए आजादी विषयक सेमिनार में जो कुछ भी कहा, अपने वक्तव्य दिये, उसके आधार पर हमारे ऊपर राजद्रोह का मामला नहीं बनने जा रहा है, तब मुझे मेरी अपनी अभिव्यक्ति के लिए दंडित किये जाने का जिम्मा दक्षिणपंथी हंगामा माचनेवाले अगुआइयों ने अपने ऊपर ले लिया। बजरंग दल और आरएसएस के लोगों ने खुलेआम एलान किया है कि वो मुझे निबटाने (to fix me) जा रहे हैं। इस निबटा देने में देशभर में मेरे खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाने से लेकर बाकी तमाम बातें भी शामिल हैं। पूरे देश ने देखा है कि वो क्या कर सकते हैं और कहां तक जा सकते हैं? इसलिए अब जब सरकार कुछ हद तक मैच्योरिटी दिखा रही है, ऐसे में क्‍या मीडिया और लोकतंत्र की मशीनरी ऐसे लोगों के हाथों भाड़े का टट्टू बनने जा रही है, जो कि उपद्रवी भीड़ के न्याय में यकीन रखते हैं। मैं समझ सकती हूं कि बीजेपी की महिला मोर्चा मुझ पर हमला करके इसका इस्तेमाल लोगों का ध्यान आरएसएस के वरिष्ठ कार्यकर्ता इन्द्रेश कुमार की तरफ से हटाने के लिए कर रही है, जिनका नाम अजमेरशरीफ में हुए बम ब्लास्ट, जिसमें कि कई लोगों की जानें गयीं और जख्मी हुए, में सीबीआई की चार्टशीट में शामिल है। लेकिन मेनस्ट्रीम मीडिया का ये गुट ठीक यही काम क्यों कर रहा है? क्या इस देश में एक लेखक का औरों से अलग विचार, बम ब्लास्ट के आरोप में फंसे व्यक्ति से ज्यादा खतरनाक है? या फिर विचारधारा के स्तर पर इन सबका एक ही कतार में खड़े हो जाना है।
| edit post
1 Response to 'मीडिया दरअसल अपराध का एक औजार बन गया है'
  1. anjule shyam
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/11/blog-post.html?showComment=1288612498522#c6861873569459414134'> 1 नवंबर 2010 को 5:24 pm

    अरुन्धुती के हालाँकि कश्मीर के सम्बन्ध में दिए गए वक्तव्य का मैं पुरजोर विरोधी हूँ…लेकिन उसी तरीके से उनके ऊपर किये गए हमले का भी मैं विरोध करूँगा…और मीडिया जिस तरीके से अपनी रिस्पोंस्बिलटी भूलती जा रही उससे तो लगता है अब इन्हें बैन कर देना चहिये….वाह क्या उदाहरण पेश कर रही है आज की मीडिया…खुद भी अपराध में भागीदारी कर रही है

     

एक टिप्पणी भेजें