.



न्यूज24 के मैंनेजिंग एडीटर अंजीत अंजुम ने टेलीविजन विमर्श के लिए कोई ब्लॉग या साइट बनाने के बजाय फेसबुक को ही अखाड़े के तौर पर इस्तेमाल करने लगे हैं। कमेंट के लिहाज से देखें तो ये ब्लॉग या साइट से ज्यादा फायदेमंद सौदा है। ब्लॉग या साइट में अपनी बात लिखने और मॉडरेट करने के लिए कम से कम 20 से 25 मिनट चाहिए होते हैं। इस करीब आधे घंटे की माथापच्ची के बाद भी आपको कितने हिट्स मिलेंगे और कितने कमेंट इसके पीछे कई सारी चीजें काम करती हैं। जबकि फेसबुक में वनलाइनर थॉट देकर बहस की शुरुआत आसानी से की जा सकती है। पर्सनालिटी अगर दमदार हो तो इसी वन लाइनर में पचासों कमेंट बटोर ले जाएगा जिसके लिए ब्लॉग में दुनियाभर के पापड़ बेलने पड़ जाते हैं। अजीत अंजुम ने इस फायदे और चोखे असर को समझते हुए चीप एंड बेस्ट के फार्मूले पर टेलीविजन के अलग-अलग मुद्दों को लेकर बहस छेड़नी शुरु की है। ये बहस टीआरपी की मारामारी के बीच बननेवाली समझ से अलग है और जिस तरह से लोगों के रिस्पांस मिल रहे हैं वो इस समझ का विस्तार भी करेगा। दिलचस्प बात है कि यहां कमेंट करनेवाले लोगों में ibn7 के मैनेजिंग एडीटर आशुतोष से लेकर वाशिंगटन में बैठे व्ऑइस ऑफ अमेरिका के सीनियर मीडियाकर्मी आमिष श्रीवास्तव और अलग-अलग चैनल, मीडिया संस्थानों के इन्टर्न और ट्रेनी भी शामिल हैं। इस बहस से कुछ छलककर हासिल हो इस लोभ से हम जैसे मीडिया के स्टूडेंट भी इस बहस में कूद पड़े हैं। अजीत अंजुम के इस टेलीविजन अखाडे में सारा मामला खुल्ला-खेल फरुर्खाबादी है। जिसको जो जी में आए वो कहे। शर्त सिर्फ इतनी है कि बहस को बीच में छोड़कर न जाए और किसी भी तरह की अभद्र भाषा का प्रयोग न करे। यहां चैनल,एंकर,कार्यक्रम,टीआरपी,टेलीविजन कल्चर के आसपास मंडराते कई मुद्दे बहस में शामिल हैं। बात कहीं से भी शुरु की जा सकती है। लेकिन फिलहाल मुद्दे उठाने का काम अजीत अंजुम ही कर रहे हैं। हां ये जरुर है कि हम जैसे लोग उस पर कमेंट कर-करके उसे और भी गर्मा दिए दे रहे हैं। आपको अगर टेलीविजन विमर्श में दिलचस्पी है तो बिना अग्गा-पीच्छा सोचे इस अखाड़े में कूद जाइए। क्या पता कुछ छलककर आपके हाथ भी लग जाए। इस बहस से किताब,लेख औऱ शोध के कई सूत्र मिलने की संभावना है,बशर्ते की खुला महौल कायम रहे। फिलहास बहस का ये नमूना आपकी सुविधा के लिए-




Ajeet Anjum
अंग्रेजी चैनल पर अगर किसी विषय पर घंटों बहस होती रहती है, उसे रेटिंग मिलती है. हिन्दी चैनल पर डिबेट के कार्यक्रम को रेटिंग नहीं के बराबर मिलती है . क्या हिन्दी चैनल के दर्शक गंभीर मुद्दों पर बहस नहीं देखना चाहते ? टाइम्स नाऊ पर अरनव हर रोज घंटे भर बहस करते हैं , राजदीप , सागरिका या बाकी एंकर्स भी करते हैं लेकिन हिन्दी चैनल पर प्रसून , आशुतोष या विनोद दुआ , अभिज्ञान या कोई और एंकर , बहस को टीआरपी नहीं मिलती , क्यों ?
Yesterday at 10:51pm • Comment • Like
3 people like this.

Nabeel A. Khan
i guess programmes like Hum Log must be getting gud TRP
Yesterday at 10:55pm

Ajit Anjum
बुरी खबर , नहीं मिलती उसे टीआरपी . दिबांग के मुकाबला को भी नहीं . आईबीएन के मुद्दा को भी नहीं . मैं तुलनात्मक बात कर रहा हूं . क्या माना जाए कि अंग्रेजी के दर्शक न्यूज और डिबेट को लेकर ज्यादा सीरियस हैं ,हिन्दी की तुलना में .
Yesterday at 10:57pm

Ranjan Rituraj
बात सही है ! एक नज़र प्रिंट मीडिया पर डाल दें ! अंग्रेज़ी अखबार और हिंदी अखबार - जवाब आपके सामने होगा ! मुझे लगता है - हम भारतवासी "अंग्रेज़ी" में ज्यादा बढ़िया सोचते हैं ! या फिर ..अंग्रेज़ी एक बेहतर क्षेत्र को 'कवर' करती है ! हिंदी और अंग्रेज़ी का फर्क उतना ही जितना ...विनोद दुआ और प्रन्नोय रॉय में है ! ( याद रहे दोनों ने एक साथ दूरदर्शन में कदम रखा था )
Yesterday at 11:06pm

Nabeel A. Khan
I feel there are few factors which influences TRP- First-I dont think that the TRP is right approach to see weather a show is hit or not as I have strong reason for that as there over 134 million TV sets in India and TRP is calculated on few thousand sample TV sets.

Second-Times Now's News Hour is popular because of its presentation and aggressive style, raise, guests and topic picked up are strictly for a defined target audience as if we see other such debate shows dont do that good just take Barkha's show We the ppl, Nidhi's show Left Right Centre,

... See More
Third-English channel has mostly middle class viewer who are more interested in knowing about nationwide issues while Hindi speaking viewer who mostly reside in rural area or tier two cities and belong to lower middle class their more focus it to know about their region, or less serious issues which u have mentioned. The other reason hindi channel audience are more concerned about very base level issues of their region
Yesterday at 11:18pm

Nadim Akhter

aap ye maan ke chaliye ke angrezi daan log serious hain aur hindi waale RAKHI SAWANT jaisi cheez dhoondhte hain...ek rickshawala ya chaya waala ghar jaa ke kya dekhna chahega bhala...EK BAAT AUR...YE ANGREZI WAALE JO BAHAS DEKHTE HAIN...WOH VOTE KARNE NAHIN JAATE....
Yesterday at 11:28pm

Ajit Anjum
नबील , टीआरपी के पैमाना को मैं कभी सही नहीं मानता . मैं खुद कहता हूं दस हजार लोग सवा सौ करोड़ की आबादी वाले देश की पसंद - नापसंद तय नहीं कर सकते . लेकिन इसी टीआरपी से अंग्रेजी चैनल के कार्यक्रम की लोकप्रियता तय होती है , जहां सीरियस डिबेट को लोग देखते हैं . हिन्दी चैनल पर उतना नहीं देखते . यही बात मुझे खटकती है . हिन्दी राज्यो के लोग राजनीतिक खबरों के प्रति जागरूक रहते हैं फिर खांटी राजनीतिक खबरें देखते क्यों नहीं ( नाच - गाना या कॉमेडी की तुलना में ) ...बहुत बड़ा सवाल है .
Yesterday at 11:35pm

Deepak Singh

There is a massive and very substantial difference between the audiences of Hindi and English media. There is a bit rot that exists and the channels are as much responsible for the rot as the audiences themselves.

We all know and have heard for ages -- "jo dikhta hai wo bikta hai"... and then we spoil the taste of the masses and then complain later on that it is something based on consumer demand... sadly but truly there are big factors behind this trend--

The difference between the ENGLISH and HINDI audiences is a big rift dividing the two. You like it or not, more of English viewers than Hindi are the ones closer to the issues, policies, development and global concerns; for their power, position, profession, money or the linkages with the global market. While largely the Hindi viewers are more interested in news, information, updates and scoops related to things closer to lives, personalities, entertainment and TV/showbiz etc..... Therefore, the attention span of the english audience will be higher than the hindi viewer when it comes to issues, themes and perspectives... An english viewer, for his/her certain level of knowledge, exposure and intellect won't tolerate nonsense as much a vernacular viewer will.. for example, stories like "bina driver ke chalne waali gaadi", "paani par chalne waale baba", "swarg ki seedhi", "chhajje mein fansi billo raani" and all the crap re-packaged cheap entertainment shows in the garb of news stories.. Yet, in terms of number of viewers, the actual eyeballs for hindi news channels will be very high... but hindi channels will need to cater to the taste and requirements of the hindi viewers in mind... NDTV is the biggest example how they brought themselves down by leaps and bounds in terms of content quality and formats... a show aiming at lower number of eyeballs but high quality (wealthy) viewers will need to be an english channel with quality content.. in the case of TRP of news channels it is always going to be a misleading show of statistics... as most of the locations with high viewership of hindi news channels are not really tapped by TAM data
Yesterday at 11:41pm

Nabeel A. Khan
@One of the reasons could be the ratio of population as we have a large population of youths in their early 20 who live life on "Just Chill" or "Masti mein jeena" terms and those who are really serious they mostly belong to the English channel audience. While the largest number of viewer constitute of women who are more tempeted to watch melodrama, cookery show, beauty show and lifestyle shows
Yesterday at 11:54pm

Nabeel A. Khan
moreover -I request all the journalists to come forward and press on the govt to review the TRP system. In the past they raised the issue but again it has been dumped. I think TRP is one of the major reasons for the deteriorating condition of TV journalism
Yesterday at 11:59pm

<a href="http://www.facebook.com/profile.php?id=1699161019">Harsh Vardhan Ojha >
It's all about bad management of TRP Ajit Jee.It has nothing to do with the quality of the programme believe me.
17 hours ago

Nadim Akhter

aap theek kah rahe hain Ajit bhai jaan..nt a bad one...bt Times now abhi tak nazar mein chadha nahin....ya phir yun kah sakte hain...its very subjective....SHAYAD LAMBE SAMAY TAK TIMES GROUP MEIN KAAM KARNE KA ASAR HAI...GHAR KI MURGI..DAAAL BARAABAR WAALI BAAT...
17 hours ago

Ashish Jain
मेले में भटके होता तो कोई घर तक पहुच देता ,हम अपने घर में भटके है ,ठोर ठिकाना कहा पायेंगे
17 hours ago

Amitabh Bharti
Please…sorry…excuse me …thank you….ye English ke sabd hai ..lekin hindi bolne wale bhi aksar iska istemaal kate paye jate hai…agar inhi sabdo ko hindi me translate karke kaha jaye to…sayad…utna asar nahi hoga…ye bhasa ki takat hai…ise hum branding bhi keh sakte hai…aaj English as a brand hindi se kafi age hai…English bolne wale …logon ko jayada credible…lagte hai…unhe ijjat milti hai…ek impression hai hamare desh me ..ki ...english me bolne wale intellectual hote hai. fir content ko lekar chahe kitni bhi badi galti ho koi fark nahi padta…log use ignore karte hai…khas kar woo..hindi bhasi …jo ..serious issues ko English channels par dekhna pasand karte hai…( halanki kuch log mahaj isliye English channels dekhte hai ki, isse english language par unki pakad badhegi ).
Jahir hai hindi ke darshak bahash to dekhna chante hai..lekin English channels par…issue anhors, content, presentation aur guests ko lekar bhi hai…kai guests to English speakers hi hote hai..we ya to …hindi me badhiya discussion nahi kar pate ya fir…hindi news channels ko avoid karte hai……
Agar example ke liye… australia me Indian students par attack ke mamle ko le…to discussion me English channels par australiam embassy ke higher officials se lekar ….australia me wahan ke Pm ya deputy pm tak live..dikh jayenge….english channels par aisa akshar hota hai….lekin hindi news channels …yahan chuk jate hai…jahir hai..muddon ko bada banana me english channels ki takat jayada hai…wo serious issues ke liye agenda ..set kar sakte hai.
15 hours ago

Yasser Usman
i feel the english news channels maintained the seriousness since the beginning and never went away from it while the hindi counterparts initially did a few frivolous things n because of it a general perception got established in the psyche of the people that - Ye hindi waaley to rakhi sawant type cheezein kartey hain, serious toh english channels hain. Though I think this perception is not right but people think like this and somewhere they cud not be completely blamed because yes there were some programmes that were really frivolous....
9 hours ago

Ajay Sharma
हो सकता है हिंदी भाषियों की बेल्ट विचारकों की बेल्ट न हो (उसने कई बार साबित किया है, हर तरह के चुनाव में करती है), हो सकता है कि हिंदीभाषी अंग्रेजीभाषी बेल्ट में स्थानांतरण की राह देखता रहा है उदारीकरण के बाद से, हो सकता है कि हिंदीभाषी बदलाव का हिमायती नहीं है, हो सकता है कि हिंदीभाषी हिंदी को भाषा मानता भी नहीं क्योंकि उसका काम अंग्रेजी से चलता है, हो सकता है कि हिंदीभाषी टीवी दर्शक हमेशा उत्तेजना चाहता है क्योंकि विचार की जगह उसने हमेशा मनोरंजन को दी है, हो सकता है और भी बहुत कुछ...
7 hours ago

Amish Srivastava
SPILIT PESONALITY SYNDROME
हालाँकि मुझे अभी बहुत कुछ सीखना है लेकिन कई मित्रों के सुझावों से मैं सहमत हूँ...लगभग तीन साल से मैं कोई भारतीय चेनल्स नहीं देख पाया हूँ...लेकिन २००७ मार्च तक अपने हिंदी चेनल्स का स्वरुप ये था कि वैसे तो दिन भर हम सारे चेनल्स ठोंक के मनोरंजक किस्म का चालू माल ढूंढते थे और दिखाते थे... और वो भी एक दुसरे की प्रतियोगिता में ,ताकि टी आर पी लूटी जा सके , कई बार तो बौसेस खुद खड़े होकर औसत feeds , जो की समाचार के नाम से कोसों दूर थीं और खुद उन अनुभवी boses के व्यक्तित्व से मेल नहीं खाती थी..काटो काटो चिल्लाते थे,.... शाम को वही बौसेस अपने अपने चेनल्स के बड़े चेहरों के साथ गंभीर कार्यक्रम या बहस पेश करने की कोशिश करते थे...इस चालूपने में सबकी आशा ये होती थी की दिन भर चालू और हल्का माल दिखाकर TRP लूटें और शाम को गंभीर बनकर...अब अपनी बनाई हुई split personality को हम चेनल्स तो नहीं समझ पाए लेकिन दर्शक ज़रूर समझ गए...हलके कार्यक्रमों की टी आर पी तो दी दर्शकों ने लेकिन गंभीर बहस पर गोल कर गए...सवाल है ऐसा क्यों हुआ ?? अब आप ही सोचिये की मनोरंजन स्टार राजू श्रीवास्तव भले हो लोगों का कितना ही बड़ा चहेता क्यों न हो लेकिन रात ९ बजे का कोई गंभीर खबर का कार्यक्रम कोई चेनेल हेड राजू से पढ्वायेगा क्या ? खबर कितनी ही गंभीर और सच्ची क्यों न हो...हम गंभीरता से नहीं लेंगे क्यों की राजू ने जो अपनी छवि बनाई है उसे देखते ही दिमाग कुछ और expect करता है,और जो राजू के चाहने वाले हैं वो उससे उसके उसी हलके अंदाज़ को बार बार देखना चाहते हैं ,गंभीर नहीं......अब आप ऐसा समझिये की हमने हिंदी चेनेल्स को राजू श्रीवास्तव बना दिया था...तो शाम के जिन कार्यक्रमों की चर्चा अजित जी ने की है उनमे से कुछ मैंने देखे हैं और वो शानदार भी थे लेकिन दर्शकों ने गंभीरता से नहीं लिया ....क्योंकि ज्यादा समय तो हमने अपने चेनेल की जो छवि बनाई उसमे सिर्फ मनोरंजक ख़बरें ही नहीं बल्कि गंभीर ख़बरों में भी हल्कापन ढूंढ कर और उन्हें मनोरंजन की तरह पॅकेज कर के दिखाया था...,तो हमारे चेनेल्स को चाहने वाले भी वैसे ही लोग इकठ्ठा हुए और जैसे ही उन्ही दर्शकों के सामने हमने अचानक गंभीर बनने की कोशिश की, उन्हें कहाँ समझ में आने वाला था ,वो खिसक लिए... उसी दौरान राखी सावंत ,क्राइम शोस जिसमे एंकर्स के पेश करने के ढंग की खास भूमिका होती थी..., भूत प्रेत ,और किसी भी entertainment channels (zee TV, sony,star plus ) जैसों के रिअलिटी लाइव शोस को काटे जाने के प्रचलन ने जन्म भी लिया था और ये परंपरा इन्ही दिनों पुष्ट भी हुयी ...मुझे कहने में कोई संकोच नहीं कि मैं भी इस दौर का एक हिस्सा रहा हूँ...तो मोटी बात ये है कि किसी इंसान की peronality या व्यक्तित्व की तरह ही हर चेनेल की एक personality होती है . हम उस व्यक्तित्व को जैसा विकसित करेंगे ,वैसे ही लोग उसे देखेंगे और चाहेंगे...मैंने देखा तो नहीं लेकिन जानना चाहता हूँ क्या और्नब ने वाकई Times Now का व्यक्तिव ऐसा तैयार किया है जिसपर गंभीर मुद्दों पर बहस ठीक लगती है ? और सबसे अच्छी खबर ये है कि उस व्यक्तित्व को बनाना हमारे ही हाथ में तो है...माफ़ कीजियेगा लगता है सन्देश थोडा लम्बा हो गया..
6 hours ago

Pramod Chauhan
अजीत जी,मुझे लगता है कि हिन्दी के दर्शक भी बहस देखना चाहते है और वो रेटिंग भी देती है लेकिन विषय यदि बिकाऊ है तो ही रेंटिग आती है आजतक पर रविवार दस बजे बहस का कार्यक्रम है और जब भी इसमें राज ठाकरे,क्रिकेट या फिर आरुषि जैसे विषयों पर बहस हुई हमेशा बहुत अच्छी रेंटिग आई है.. हिन्दी का दर्शक भी डिबेट देखना चाहते है कई बार आईबीएन 7 का कार्यक्रम मुद्दा या फिर एनडीटीवी के कार्यक्रम मुकाबला ने अच्छी रेंटिग दी है..याद किजिए मुकाबला में जब हंसी के मुद्दे पर बहस हुई थी तो उस टाइम बैंड में वो नंबर वन पर पहुंच गया था.. शायद हिन्दी का दर्शक इतना जागरुक है कि उबाऊ विषयों पर बहस यहां नहीं बिकती है।
5 hours ago

Ajit Anjum
प्रमोद जी , आप तो अनभवी हैं , रेटिंग किस तरह के डिबेट को कितनी मिलती है , आपको भी पता भी होगा . आपने खुद कहा मुकाबला को कब और क्यों रेटिंग मिली थी . अगर मुकाबला जैसे जमे जमाए कार्यक्रम को रेटिंग हंसोड़ों का मजमा लगाकर मिले तो समझ सकते हैं रेटिंग बहस को मिल रही है या सुनील पाल , ख्याली जैसे लोगों को . मुझे याद कि जब उस एपिसोड को रेटिंग मिली थी , तो एनडीटीवी ने उसे खूब रिपीट किया था . दिबांग जैसे सीनियर जर्नलिस्ट का शो रेटिंग के लिए इन हंसोड़ों का मोहताज बन गया , तो क्या कहेंगे आप . मुद्दा को मैं अच्छा कार्यक्रम मानता हूं लेकिन उन्हें अपेक्षित रेटिंग नहीं मिलती . यही हाल एजेंडा और न्यूज प्वाइंट का भी है . ये सभी कार्यक्रम बेहतरीन माने जाते हैं लेकिन इन्हें वाजिब रेटिंग नहीं मिलती . जबकि अंग्रेजी में ऐसा नहीं है . उस टीआरपी के पैमाने से अंग्रेजी चैनल्स पर हो रही बहस को रेटिंग मिलती है . ये चिंताजनक है . क्या हिन्दी दर्शक गंभीर चीजें नहीं देखते ?इन सवालों से हम हर रोज जूझते हैं , आपके चैनल में लोग जूझते होंगे .
7 hours ago
5 hours ago

Vineet Kumar
हिन्दी चैनलों पर लोग बहस करने के बजाय ज्ञान देने की मुद्रा में आ जाते हैं। वो प्रीचिंग के मूड में आ जाते हैं। उन्हें लगता है कि सामने जो ऑडिएंस देख रही है वो अंगूठा छाप है। यकीन मानिए अंग्रेजी चैनल के लोग समझते हैं कि वो जो कुछ भी कह रहे हैं,उसे पढ़ी-लिखी ऑडिएंस देख-सुन रही है।...दूसरी बात,हिन्दी चैनल के लोग अमेरिका की बात करते-करते मुनिरका आ जाते हैं। अब आप ही बताइए कि जब टीआरपी के पीपल मीटर अर्वन एरिया,मिडिल और अपर मिडिल क्लास इलाके में लगे हैं तो ऑडिएंस वेवकूफ कैसे हो गयी।..
5 hours ago •

Ajit Anjum
विनीत मैं इस बात पूरी तरह असहमत हूं. हिन्दी चैनल पर अगर विनोद दुआ ,पंकज पचौरी , प्रसून , अभिज्ञान , आशुतोष , प्रभु चावला जैसे तमाम सीनियर पत्रकारों के लिए अगर आपकी ये राय है तो मैं उसे मानने को तैयार नहीं . राजदीप खुद भी कई बार आईबीएन -7...See More
5 hours ago

Ajit Anjum
अगर आप पहले से तय सोच और पूर्वग्रह के साथ ये मान लेंगे कि हिन्दी चैनल्स के पत्रकारों को बहस करने की तमीज नहीं तो हमें असहमति है .
5 hours ago

Vineet Kumar
आपकी बात से पूरी तरह सहमत हूं कि आपने जो मुद्दा उठाया है उस पर गंभीरतापूर्वक रिसर्च करने की जरुरत है।..संभवतः शुरुआती दौर पर हमने जो अनुभव किया है वो एक कारण तौर पर दिखायी देता है। हां ये जरुर है कि ये अकेले ही सबकुछ तय नहीं करता। ये पूरी तरह एक सोशियोलॉजिकल रिसर्च है। ऑडिएंस के मिजाज को जानन-समझने का मसला है। उसके बैग्ग्राउंड,वे ऑफ रिसीविंग का मामला है। इस पर काम होना चाहिए। अच्छा लग रहा है कि टेलीविजन पर लिखते-पढ़ते हुए मैं जिन सवालों पर बात करना चाह रहा हूं,उसे आगे ले जाना चाह रहा हूं वो सब आपकी तरफ से आ रहे हैं। मैं तो कई बार कह चुका हूं कि हमें सारे मामले को टीआरपी की छतरी के नीचे लाने के बजाय उन मुद्दों पर बात की जानी चाहिए जो कि सीधे-सीधे टीआरपी को लेकर होनेवाले बहस नहीं है। इस बहस को आगे ले जाने से हमें अंदाजा लग जाएगा कि हिन्दी टेलीविजन ने किस तरह की अभिरुचि का विकास किया है।
इन सब बातों के अलावे एक बात तो है कि बहस और विमर्श को लेकर हिन्दी चैनलों के जो कार्यक्रम फिक्स हैं उसे तो ऑडिएंस देखती ही है। टीआरपी का तो साफ-साफ नहीं कह सकता लेकिन हां इतना जरुर है कि वो लोगों के बीच पॉपुलर कार्यक्रम हैं। इसलिए सब कुछ ऑडिएंस पर थोप देना,इस पर असहमति है।
5 hours ago •

Amish Srivastava
मैं ये मानता हूँ कि हिंदी में talent कि कोई कमी नहीं है,लेकिन ये भी मानता हूँ कि भाषा में भी कमी नहीं है...कभी कभी ये लगता है कि हिंदी की इन्ही गंभीर बहसों को, कार्यक्रमों को अगर किसी अंग्रेजी चेनेल पर prime time दिखाया जाए तो मुझे लगता है हिंदी चेनेल्स के मुताबिक ज्यादा रेटिंग मिल सकती है...उन्होंने हमसे ज्यादा गंभीर दर्शक इकठ्ठा किये हैं..
5 hours ago

Vineet Kumar
एक बात और..ये बहस सिर्फ हिन्दी-अंग्रेजी चैनलों को लेकर नहीं है बल्कि पूरी नॉलेज इंडस्ट्री में है कि मनोरंजन के स्तर पर तो हिन्दी ठीक है लेकिन नॉलेज की भाषा अंग्रेजी होगी। ये टेलीविजन के भीतर भी है। अंग्रेजी आज भी प्रायमरी सोर्स की तरह काम करता है। बहस उसी का हिस्सा है। इसलिए इस बहस का एक सिरा भाषा को लेकर बननेवाली डेमोग्राफी से भी जुड़ती है।
5 hours ago •

Ashutosh Ashu
बहस को लोग तब देखते है जब समाज में कोई मुद्दा गरम हो और लोगों को छूता हो । ज्यादातर टीवी पर बहस सिर्फ बहस के लिये होती है । पाकिस्तान का उदाहरण ले । वहां सबसे ज्यादा लोकप्रिय शोज उनके टाक शोज है। लोग खूब बहस करते हैं और खूब देखते है क्योकि समाज संकट मे है , उसका अस्तित्व खतरे में है । लोग इन बहसों के जरिये संकट को समझना भी चाहते है और उसका निराकरण भी खोजना चाहते हैं । हिंदुस्तान का टीवी देखने वाला मिडिल क्लास इस समय फील गुड के मूड में है । उसकी चिंता अस्तित्व की नहीं है और समाज अपने को बेहतर महसूस कर रहा है। राजनीतिक आंदोलन और सामाजिक आलोढन कहां है तो बहस के लिये स्पेस कहां है ।
5 hours ago

Ajit Anjum
आशुतोष जी , अच्छा लगा , आप इस बहस में आए . अंग्रेजी चैनल पर टॉक शो को लोग क्यों देखते हैं , हिन्दी चैनल पर क्यों नहीं , ये एक सवाल है , जिस पर विचार करने की जरूरत है . जब मैं कह रहा हूं नहीं देखते हैं तो पब्लिक एट लार्ज की बात कर रहा होता हूं . टीआरपी के एक ही पैमाने पर अंग्रेजी चैनल हिट है लेकिन हिन्दी चैनल के टॉक शो को उतनी रेटिंग नहीं मिलती है ....See More
4 hours ago

Pushkar Sinha
हिंदी चैनल पर जब टॉक शो आता है तो कोई ना कोई दूसरा हिंदी चैनल कॉमेडी, रिएलिटी दिखा रहा होता है. पब्लिक उधर भाग जाती है. टॉक शो अंग्रेजी चैनल का हिस्सा लगता है. हिन्दी में लगता है हम न्यूज दिखाने के गरज से टॉक शो कर रहे हैं. वैसे स्तर में अंग्रेजी या हिंदी के टॉक शो बराबर होते हैं. हिंदी के टॉक शॉ कहीं कम नहीं होते. गेस्ट पर डिपेंड करता है शो कैसा होगा.
3 hours ago

Ashutosh Ram Tripathi
social serve ke jrurat hi....
3 hours ago

">Pramod Chauhan
अजीत जी, आपकी बात सही है लेकिन मेरा मानना है कि यदि बहस का विषय बिकाऊ है..और गेस्ट मजबूत है साथ ही चैनल की रिच ठीक है तो टीआरपी आती ही है.. बहस हिन्दी या अंग्रेजी टेलीविजन की तुलना के बजाए इस बात पर होना चाहिए कि क्या सिर्फ टीआरपी ही प्रोग्राम के हिट या फ्लॉप होने का पैमाना है ?
3 hours ago

Shail Rawat
ऐसा नहीं कि हिंदी न्यूज़ चैनल में होने वाली बहस की रेटिंग कम हैं ...रजत शर्मा का मशहूर शो" आपकी अदालत "की रेटिंग उनके चैनल में चलने वाले न्यूज़ की रेटिंग से हमेशा ज्यादा होती हैं ......अब जहाँ तक गंभीर मुद्दों पर बहस की बात हैं तो आपको दो चार अतिथि आपको हर चैनल में बाद विवाद करते हुए नजर आ जायेंगे ..बिषय कोई भी हो ..उनका ..कोई रिजल्ट नहीं निकलता ....फिर जनता उन प्रतिनिधियों को नकार देती हैं ...जहाँ तक रेटिंग का मुद्दा हैं तो ..कहना मुश्किल हैं रिमोट आपके हाथ में हैं .....
2 hours ago

Aasmohammad Kaif
Hindi wale jaggagenge tou dunia wale bhaggaenge.............
2 hours ago

Dheeraj Bhatnagar
अजीत जी का सवाल बेहद गंभीर है... जहाँ तक मैं समझ सकता हूँ, हिंदी चैनल्स पर गंभीर बहस के प्रोग्राम सिर्फ इसलिए नहीं देखे जाते, क्योंकि मादरी ज़ुबान में मसख़रे और हंसोड़ देखने वाली जनता को ज्यादा entertaining लगते है. क्योंकि, हिंदी चैनल्स ने entertainment को खबरों का हिस्सा बना दिया है, और अंग्रेजी चैनल्स के पास "रतन नूरा" और "ख्याली" के लिए कोई time-slot नहीं है... दुःख की बात तो ये है कि कई बार गंभीर ख़बर आने के बावजूद हिंदी टी.वी चैनल्स के लिए "हंसी की महफ़िल" का व्हील तोड़ना मुश्किल होता है... आख़िर TRP मीटर जो चल रहा है... जबकि अरनब गोस्वामी ख़बर पर टूट कर पड़ते है... और जब तक हिंदी चैनल्स ख़बर पर आते है... अंग्रेजी के चैनल उस ख़बर को मुद्दा बना कर बहस में जुट जाते है... और देश के वो लोग जिन्हें सिर्फ खबरों से सरोकार है... वो खुद को अंग्रेज़ी चैनल्स पर चल रही बहस का हिस्सा बना लेते है...
about an hour ago
इस मसले पर आगे भी बहस जारी है। मेरे लिखे और कमेंट चुने जाने तक इतना ही।..

| edit post
6 Response to 'अजीत अंजुम ने खोला टेलीविजन अखाड़ा'
  1. रंजन
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1262964112203#c5198968007261029817'> 8 जनवरी 2010 को 8:51 pm

    विनीत बाबु , अब आपका पी एच डी बहुत जल्द पूरा हो जायेगा ! बढ़िया लगा ....अजित अंजुम के बहस को ब्लॉग पर ला कर आप और गर्मी पैदा कर दिए ! मै मीडिया का नहीं हूँ लेकिन ...अजित सर के बहस में शामिल होता हूँ - अच्छा लगता है ! कई लोग मुझे घूर कर भी देखते हैं - बेगानी शादी में अब्दुल्लाह दीवाना !

     

  2. Sheeba Aslam Fehmi
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1262966643122#c7821359424992877647'> 8 जनवरी 2010 को 9:34 pm

    kya zabardast adan-pradan chal raha hai yahan.....'content ki gunvatta' aur 'hindi jagat ka taste' dono behtar hongey aisei kushtiyon se.
    Ajit Anjum ne bilkul sahi aur soojh-boojh se yeh akh'khada sajaya hai...! Sochne par majboor karega aur vyapakta aur vivek bhi laega soch mein!

     

  3. PD
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1262979474862#c7087996884713684203'> 9 जनवरी 2010 को 1:07 am

    फ्रेंड रीक्वेस्ट भेज दिया है.. कुछ उनके अखाड़े कि कुस्ती भी देखी जाये..

    वैसे इतनी भाड़ी-भरकम बहस का एक मुखड़ा ही देखकर यहां से हांफते हुये जा रहे हैं.. :)

     

  4. Sanjeet Tripathi
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1263060029635#c9206442148087992581'> 9 जनवरी 2010 को 11:30 pm

    shukriya vineet, itne mahatvpurna mudde ko apne blog par lakar hamein jankari dene k liye.

    ye vakai me ek accha mudda chheda gaya hai

     

  5. Aarti Tiwari
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1352179632241#c8346477294517620129'> 6 नवंबर 2012 को 10:57 am

    इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

     

  6. Aarti Tiwari
    http://taanabaana.blogspot.com/2010/01/blog-post_08.html?showComment=1352179998590#c5556008177707978879'> 6 नवंबर 2012 को 11:03 am

    If the content, topic and presentation would be good then there will be no any obstacle to reach TRP, It doesnt depend upon the language of the program, it depends upon the quality and issue of the program, In fact Hindi is a more effective medium then the English, one can Express the sense of the story more clearly then the English, sorry, I m writing but I love to interrupt between the big people

     

एक टिप्पणी भेजें