.

आदि, तू इतना अपसेट क्यों हो रहा है यार ? एक संडे हमलोग नहीं मिलते तो इससे पहाड़ तो नहीं टूट जाता न और फिर आगे हम इतने संडे साथ होंगे कि तुझे याद भी नहीं रहेगा कि कभी एक संडे हमने मिस्स भी किया था. जस्टू कूल डूड.

सद्या,मैं सीरियस हूं और तूझे मजाक सूझ रहा है. इस तरह से बिल्कुल भी नहीं चलेगा.तुम्हें अपनी प्रायरिटी मेरे सामने क्लीयर करनी ही होगी.

तो किस तरह से चलेगा जानेमन. आ जा कमलानगर तू भी. मिलाती हूं तुझको तेरी होनेवाली सासू मां से, आज तू भी डेट कर लियो मेरी तरह. बोल आ रहा है, भेजूं तेरे लिए घोड़ी ?

सद्या, प्लीज बंद करो बकवास नहीं तो फिर अपनी पेशेंस खत्म हो गई तो तुझे सारे लड़के एक से होते हैं के अलावे बोलने के लिए कुछ नहीं बचेगा. तुझे एक जरा भी इस बात की फीलिंग होती कि मैंने डबल शिफ्ट सिर्फ इसलिए की थी कि संडे की शाम तुम्हारे साथ बिता सकूं तो अभी इस तरह लापरवाही से मेरे से बात नहीं कर रही होती. कितना मुश्किल है इस चैनल की नौकरी से एक संडे निकालना, तुम्हें कुछ नहीं मालूम यार. तेरा क्या है, घर से निकलो मटरगश्ती करो और वापस घर.

हैलो डीयर,मैं कोई मस्ती-बस्ती नहीं करती, जीआरई की तैयारी कर रही हूं और जरा करके दिखइयो तो तू. दो घंटे कायदे से बैठा नहीं जाता और चला है हमें ही ताने दे..क्या करता है तू चैनल में, हमें पता नहीं है क्या ? आज दिखाएंगे रात के सात बजे- हिन्दुस्तान का आखिरी मुगल बादशाह अभी भी है जिंदा. आखिर क्यों दीपिका पादुकोण ने पार्टी में जाने से इन्कार. ही ही ही, यही है तेरा मीडिया और यही है तेरी जर्नलिज्म. इसी के लिए तू डबल शिफ्ट करता है, पहाड़ तोड़ता है नोएडा में बैठकर.

सद्या. तुम मेरे काम का इस तरह मजाक उड़ाओगी, डिस्गस्टिंग. यार, इतना घटिया तरीके से तो मेरे दुश्मन भी नहीं लेते मेरे काम को. इसका मतलब है तू मेरे पीठ पीछे इसी तरह से मजे लेती होगी दोस्तों के बीच मेरा.

लग गई न मिर्ची आदि, जरा सा मैंने कह दिया तो और तू पिछले दस मिनट से जो फोन पर बकवास किए जा रहा है वो क्या है ? मेरी मां नहीं बुढ़िया है, सत्तर की दशक की खटारा. बोल, यही बात तू अपनी मॉम के लिए बोल सकता है. मैं बोलूं, तेरी मां किसी एंगिल से मां नहीं लगती, चुड़ैल लगती है मुझे और मैं तो उनके साये से भी डरती हूं. मैंने तो तेरे से शादी के लिए बस इसलिए हां कर दी कि तूने ही कमिट किया है कि हम साथ नहीं रहेंगे. नहीं तो, सास..हूं, दो घंटे में चक्कर खाने लगूं मैं उनके सामने.

सद्या, मैं तेरा खून पी जाउंगा. मेको जो बोलना है बोल पर मेरी मां पर मत जा..ये  जो तू मॉड बन रही है न, सब दो मिनट में भीतर चला जाएगा. बता तो जरा इससे पहले कितनी बार तूने मदर्स डे सिलेब्रेट किया है और कितनी बार मां के साथ बिताए हैं ?

कभी नहीं बिताए हैं तो क्या अब भी नहीं बिताउं और फिर तू होता कौन है यार ये बतानेवाला कि मैं क्या सिलेब्रेट करुं क्या नहीं..और दुनिया में क्या सिर्फ एक ही दिन है सिलेब्रेट करने के..वो तेरी सड़ी सी तीन दिन के बासी गुलाब और क्रेडी नूडल्स में लंगर खाकर मेकआउट करने के. कभी दूसरे दिन का भी ख्याल कर, जिंदगी बहुत बड़ी लगेगी. आज पहली बार अफसोस हो रहा है आदि रियली, विलीव मी कि तू मेरा प्यार है..ssssss

सद्या,सद्या..प्लीज.यार तेरी यही बात मुझे बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगती. पहले तो अटैकिंग होती हो और जब मैं पलटकर जवाब देने लगता हूं तो एमसीडी के नल बहाने लग जाती हो. अच्छा लग रहा होगा तू कमलानगर की भीड़ में इस तरह रोकर फोन पर बात कर रही होगी. कमऑन..चुप्प हो जाओ, अब तेरी मां सत्तर की दशक की खटारा है तो क्या श्वेता तिवारी कहूं उन्हें. खैर, जाने दे, तेरी मां को भला-बुरा कहने का मतलब है अपनी ही सासू मां की बेइज्जती करना, लीव इट.

वट एक बात तो है, तू मना तो कर सकती थी न कि आज रहने दो मां, कल चलेंगे कमलानगर, वैसे भी आज भीड़ बहुत होगी ? मेरे लिए तो तूने पहले भी पचासों बहाने बनाए हैं, पहली बार तो होता नहीं.

नहीं बना सकती थी आदि क्योंकि मां ने नहीं कहा था कि मुझे तेरे साथ आज घूमना है. मैं भागकर आयी थी तेरे से मिलने के चक्कर में पार्लर वैक्स कराने. आकर देखा तो कमलानगर का नजारा ही अलग था. आज लड़कियां रोज की तरह ही अदा में थी, उसी तरह से वाउ,कमऑन,मिसिंग यू, कर रही थी लेकिन उनके हाथ किसी दूसरे खुरदरे,कठोर हाथों में नहीं अपनी मां के हाथों में थे. वो उनके साथ मोमोज खा रही थी, एक ही तरह की स्लीपर खरीद रहीं थी, पिक्स लेकर ट्वीट कर रही थी और तो और जबरदस्ती मॉम के लिए एक-दो सेंटी लड़की बिकनी खरीद रही थी. मुझे ये सब बहुत ही फैसिनेटिंग लगा. मैं भूल गई की वैक्स करानी है और फिर जब हमें मिलना ही नहीं था तेरे से तो फिर वैक्स तो बाद में भी करा सकते थे..सो वापस घर आ गयी. मां तो तैयार कराया और आ गयी कमलानगर.

अच्छा, तो तुने जान-बूझकर मिलने का प्रोग्राम कैंसिल किया..तू सच में कितनी कमीनी है सद्या.यार इतना घटिया तरीके से तू ये सब बता भी रही है.तुझे मेरा एक जरा भी ध्यान नहीं आया कि आदि कैसे रातभर की शिफ्ट करके आया होगा, अभी सो रहा होगा और मेरे लिए शाम को आएगा..कुछ भी नहीं सद्या, एक बार भी नहीं.तूने सच में अपनी औकात दिखा दी..तू सच में चालू चीज निकली यार. मैं तो सोच भी नहीं सकता था कि तू इस तरह भी कर सकती है. मां की एनीवर्सरी औऱ बर्थ डे तक छोड़ा है तूने मेरे लिए और आज इस बाजार की ड्रामेबाजी मर्दस डे के लिए मेरी एक वीक पहले मिलने के प्लान को मिट्टी में मिला दिया.

आदि, मैंने मां से पचासों बार तेरे लिए झूठ बोले हैं लेकिन आज नहीं बोल सकती थी और आज क्या कभी नहीं बोलूंगी और पता है पहली बार सच क्या बोलूंगी- मां, तुम्हारी बेटी ने एक लड़के से प्यार किया था जिसने मिलने से पहले ही तुझे बहुत इन्सल्ट किया, तुझे खटारा कहा लेकिन वो अब इतिहास का हिस्सा है, मेरा पहला प्यार तुम ही हो मां. अब फोन रख दे आदि और हां पिछले डेढ़ घंटे से तूने जो व्हॉट्स अप पर जीना हराम कर दिया है न, बंद कर दे.नहीं तो ब्लॉक कर दूंगी.
......................................
क्या हुआ बेटे, कहां चली गयी थी तू ? वेटर कितनी बार आकर लौट गया, पूछ रहा था कौन सा पिज्जा चाहिए आपको, पानी नार्मल लेंगी या मिनरल, मैं तो तेरा इंतजार कर रही थी, समझ नहीं आ रहा था.
कुछ नहीं मां, बस...वो क्या है न कि मेरी एक फ्रैंड है, आज कहा था कि हम मदर्स डे पर ओल्ड एज होम जाएंगे, मैं इधर आ गयी तो वो नाराज हो गयी और कोई बात नहीं.
पगली तो तूने इत्ती सी बात पर अपनी आइलाइनर खराब कर ली रो-रोकर. खैर जाने दे..आर्डर कर फटाफट. अब तो पिज्जा मंगा या पापड़, मुझे तो भूख लगी है जोर से.
एक्सक्यूज मी भइया.
जी मैम.
एक मैक्सिकनन ग्रीन वेव मीडियम और एक डबल चीज मार्केरिटा स्मॉल देना. साथ में दो कोक.
जी.
और बताओ मॉम, कैसी लग रही है मेरे साथ डेटिंग.
अच्छा तो यहां आकर तेरी खटारा मां, मॉम हो गई.
मां, तुम भी न..सारा मजा खराब कर देती हो, तुम तो मुझसे भी ज्यादा स्पायसी लगती हो.
चलो छोड़ो, आज पापा से ही पूछ लूंगी.
 सद्या ने आंख मारकर हल्के से मां के पैर दबा दिए थे..
एक बात बोलूं बेटा..तुझे आज न मेरे साथ नहीं आना चाहिए था, किसी और दिन
क्यों ओल्डएज होम तो कल भी जा सकती हूं न मॉम.
जा तो सकती है लेकिन पता नहीं कल तेरी दोस्त को छुट्टी मिले न मिले.
अरे वो रोज बैली बैठी होती है, मिल जाएगी छुट्टी.
सद्या, बैठा होता है, होती नहीं है............................
मॉम....
मैम,ये रहे आपके आर्डर.
नहीं, पहले मैं खिलाउंगी, आपने तो खिलाकर इतना बड़ा कर ही दिया, आज मैं.
नहीं सद्या मैं,
नहीं मॉम मैं.
एक्सक्यूज मी मैम, क्या हमलोग आपकी ये वीडियो शूट कर सकते हैं. हमारे यहां ऑफर है कि जितने बच्चे अपनी मॉम के साथ आएंगे, उनकी वीडियो बनाकर कॉन्टेस्ट में शामिल करेंगे और जिस वीडियो को सबसे ज्यादा हिट्स मिलेंगे, उन्हें लाइफ टाइम हमारे यहां का पिज्जा फ्री.
क्या भइया, पहले मुझे मॉम को एक-दो टुकड़े खिला तो लेने देते, बीच में ही टोक दिया.
ओह मॉम, इतनी सारी चीजों की टॉपिंग तो पहले से की हुई है, आपने आंसू की टॉपिंग क्यों कर दी..बचा कर रखो मॉम, अभी से ही..अभी तो बाबुल की दुआएं लेती जा की सीडी बजनी बाकी है..
...........................................


| edit post
6 Response to 'मेरी मां खटारा नहीं है आदि( लप्रेक)'
  1. अनूप शुक्ल
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1368372113842#c8756837118363275920'> 12 मई 2013 को 8:51 pm

    बहुत सुन्दर। रोचक।

     

  2. अनूप शुक्ल
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1368372668144#c1889173723158091219'> 12 मई 2013 को 9:01 pm

    इस पर तो शूटिंग होनी चाहिये एक ठो! :)

     

  3. अनूप शुक्ल
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1368373417826#c3713125396488243294'> 12 मई 2013 को 9:13 pm

    कमलानगर और कई अन्य जगहों की कई सद्यायें तुमको कोसेंगी इसे पढ़कर कि तुमने सुबह क्यों नहीं लगाई यह पोस्ट! लगाते तो पढ़कर वे भी अपनी मॉम के साथ डेट पर चली जाती आज । :)

     

  4. Sonal Rastogi
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1368431027784#c7567964727841372140'> 13 मई 2013 को 1:13 pm

    :-)

     

  5. Unknown
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1369298304933#c348391629380658866'> 23 मई 2013 को 2:08 pm

    बेहद दिलचस्प लगा।

     

  6. तुषार राज रस्तोगी
    http://taanabaana.blogspot.com/2013/05/blog-post_5545.html?showComment=1369665742930#c3074472075490581053'> 27 मई 2013 को 8:12 pm

    आनंदमय, बेहतरीन, लाजवाब और विचारों की सटीक अभिव्यक्ति | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

     

एक टिप्पणी भेजें